चीटिंग में चीटिंग : चीटिंग करके जिस इमारत का निर्माण किया था उसी में फिर चीटिंग कर ली अजीत भाटिया ने, पूर्व लॉ ऑफिसर ने महापालिका को भेजी लीगल नोटिस, अजीत भाटिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग

0

अकेला
अजीत
भाटिया (Ajit Bhatia) की चीटिंग के तरीके पर वेब सीरीज बनाई जा सकती है। गारंटी है वेब सीरीज सुपर-डुपर हिट होगी। जिस इमारत का निर्माण अजीत भाटिया ने फर्जी डॉक्युमेंट्स के जरिये किया था उसी में उसने फिर चीटिंग कर ली। महापालिका, पत्रकार और शहरवासियों को के मूर्ख बनाया। अब उल्हासनगर महापालिका के पूर्व लॉ अधिकारी प्रकाश कुकरेजा ने महापालिका को लीगल नोटिस भेजकर अजीत भाटिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। (Former law officer demanded FIR against Ajit Bhatia sending legal notice to Ulhasnagar Municipal Commissioner Aziz Shaikh).

22 सितम्बर 2022 को एबीआई (abinet.org) ने खुलासा किया था कि अजीत भाटिया ने मृत महिला लक्ष्मीबाई हरयाणी (Dead woman Laxmibai Haryani) के नाम प्लान पास करवाकर आकाश विला नाम की इमारत का निर्माण कर लिया था। टाउन प्लानर प्रकाश मुले (Town Planner Prakash Mule) ने आकाश विला के प्लान पर स्टे दे दिया था और 12 सितम्बर 2022 को अजीत भाटिया को कारण बताओ नोटिस (Issued show cause notice to Ajit Bhatia) जारी कर स्पष्टीकरण माँगा था। नोटिस में धमकी भी दी थी कि उसके खिलाफ 420 की एफआईआर की जा सकती है। अपने बचाव में अजीत भाटिया ने पत्रकारों को दिखाया था कि तब के टाउन प्लानर संजीव कर्पे (Town Planner Sanjeev Karpe) ने शुद्धि पत्र छापकर मामले को स्पष्ट किया था कि लक्ष्मीबाई हरयाणी का नाम गलती से लिख दिया था। हकीकत में लक्ष्मीबाई हरयाणी के पति किशिनचंद हरयाणी (Kishinchand Haryani) का नाम होना चाहिए था। वर्तमान टाउन प्लानर प्रकाश मुले अजीत भाटिया के स्पष्टीकरण से संतुष्ट हो गया। उसने अजीत भाटिया के खिलाफ एफआईआर करने का इरादा त्याग दिया। अब इस मामले में नया डेवलपमेंट ये है कि जिस किशिनचंद हरयाणी का नाम शुद्धि पत्र में छापने की बात अजीत भाटिया कर रहा है उनकी भी मौत बहुत पहले हो गयी थी। और तो और शुद्धि पत्र प्रकाशित करने के लिए अजीत भाटिया ने अपने नाम से पेपरबाजी की परन्तु उन पेपर्स पर हस्ताक्षर उसके पार्टनर शंकर सेवलानी (Shankar Sevlani) ने किये।

चीटिंग नंबर-1 : यह कहानी बैरक नंबर-409, कमरा नंबर- 8, 9, सीट-85, कक्ष- 8/9, सीटीएस नंबर 8003/8004, आराधना बिल्डिंग के पीछे, निकट गोल मैदान, उल्हासनगर-1 में बनी आकाश विला (Akash Villa) इमारत की है। जमीन मालकिन लक्ष्मीबाई हरयाणी और आशा दुधानी थे। 15 अगस्त 2000 को लक्ष्मीबाई हरयाणी की मौत हो गई थी। लेकिन अजीत भाटिया ने लक्ष्मीबाई के नाम प्लान पास करवाकर इमारत बना ली। 5 अगस्त 2013 को इमारत का प्लान पास हुआ। ग्राउंड प्लस फोर मंज़िल की बिल्डिंग बनकर तैयार हो गई। तब अतिरिक्त आयुक्त श्रीधर पाटणकर, उपायुक्त नितिन कापड़नीस, जूनियर इंजीनियर विजय रिजवानी और आर्किटेक्ट दीपक सुखवानी थे।

30 नवम्बर 2022 को वरिष्ठ वकील प्रकाश कुकरेजा (Advocate Prakash P Kukreja) ने- अर्जन (अज्जू) रामरख्याणी (Arjan Ramrakhyani alias Ajju) की शिकायत पर- महापालिका आयुक्त अज़ीज़ शेख (UMC Commissioner Aziz Shaikh) को लीगल नोटिस भेजकर अजीत भाटिया के खिलाफ भादंसं की धारा 420, 465, 467, 468, 469 और 471 के तहत एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। प्रकाश कुकरेजा उल्हासनगर महापालिका के ही लॉ ऑफिसर रहे हैं। उन्हें कानून, शहर, शहरवासियों और अजीत भाटिया के चीटिंग की विस्तृत जानकारी है।

चीटिंग नंबर- 2 : शिकायत के बाद अजीत भाटिया ने आनन फानन में लक्ष्मीबाई की जगह उनके पति किशिनचंद हरयाणी का नाम चढ़वा दिया। उसी आधार पर टाउन प्लानर संजीव कर्पे ने 29 अप्रैल 2016 को शुद्धि पत्र भी प्रकाशित कर दिया। परन्तु अजीत भाटिया और संजीव कर्पे को यह मालूम नहीं था कि दो साल पहले यानि 22 अप्रैल 2014 को किशिनचंद हरयाणी की भी मौत हो गई है।

चीटिंग नंबर- 3 : चार जनवरी 2017 को महापालिका ने आकाश विला को पूर्णता प्रमाण (उमपा/नरवि/बांप/60/13/503) पत्र दिया। इस प्रमाण पत्र पर टाउन प्लानर प्रह्लाद होगे पाटिल का हस्ताक्षर है। जबकि टाउन प्लानर के रूप में प्रह्लाद होगे पाटिल का कार्यकाल एक अगस्त 2011 से 10 अक्टूबर 2013 तक ही था। जिस तारीख- चार जनवरी 2017- को पूर्णता प्रमाण पत्र जारी हुआ है तब ए.जे. जाधव टाउन प्लानर थे। ए. जे. जाधव का कार्यकाल सात अक्टूबर 2016 से सात अप्रैल 2017 तक था।

अजीत भाटिया की इस चीटिंग में चीटिंग का पर्दाफाश अर्जन (अज्जू) रामरख्याणी ने किया। आरटीआई के जरिये उन्होंने समस्त डॉक्युमेंट्स हासिल किये। अज्जू रामरख्याणी की ही शिकायत पर प्रकाश मुले ने अजीत भाटिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। बाद में शांत बैठ गया। अजीत भाटिया की इस चीटिंग सीरीज़ में स्पष्टतः प्रकाश मुले भी शामिल है। उसके खिलाफ भी एफआईआर होनी चाहिए।

4.5 6 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments