चैट बम-3 : समीर वानखेड़े ने बॉम्बे हाईकोर्ट को दी व्हाट्सप्प चैटिंग की तीसरी किस्त, ज्ञानेश्वर सिंह बचाना चाहते थे गवाह किरण गोसावी को !

1

अकेला 

भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी समीर वानखेड़े (IRS Sameer Wankhede) ने शुक्रवार को बॉम्बे हाईकोर्ट को चैटिंग की एक तीसरी किस्त दी। यह व्हाट्सप्प चैटिंग समीर वानखेड़े और उनके तात्कालिक बॉस ज्ञानेश्वर सिंह (IPS Gyaneshwar Singh) के बीच की है। इस चैटिंग में ज्ञानेश्वर सिंह प्रमुख गवाह किरण गोसावी उर्फ़ केपी (Kiran Gosavi alias KP) को बचाने की सलाह दे रहे हैं।

सबको याद होगा कि समीर वानखेड़े ने व्हाट्सप्प चैटिंग की पहली क़िस्त बॉम्बे हाईकोर्ट को दी थी। यह चैटिंग समीर वानखेड़े और उनके उच्चाधिकारियों के बीच थी जिसमें उच्चाधिकारी (खासकर ज्ञानेश्वर सिंह) समीर वानखेड़े को निर्देश दे रहे थे कि कैसे भी करके आर्यन खान को गिरफ्तार करना है और कोर्ट से कस्टडी भी लेनी है। यह चैटिंग बम के समान थी। इसी चैटिंग से खुलासा हुआ था कि समीर वानखेड़े ने आर्यन खान (Aryan Khan) को कानूनन और अपने उच्चाधिकारियों के निर्देश पर गिरफ्तार किया था। इसमें उनका कोई निजी स्वार्थ नहीं था।

ज्ञानेश्वर सिंह

दूसरा व्हाट्सप्प चैटिंग बम भी समीर वानखेड़े ने बॉम्बे हाईकोर्ट में सब्मिट किया था। यह चैटिंग समीर वानखेड़े और शाहरुख़ खान के बीच की थी। इस चैटिंग में शाहरुख़ खान आर्यन खान को बचाने की मिन्नतें कर रहा है। गिड़गिड़ा रहा है। इस चैटिंग को पढ़कर न्यूज़ एंकर्स रुंआसे हो गए थे। वे एक पिता (शाहरुख़ खान) की पीड़ा को कुछ ज़्यादा ही फील कर बैठे थे। लेकिन निष्ठुर समीर वानखेड़े का दिल नहीं पसीजा। समीर वानखेड़े ने आर्यन खान पर कोई रहमदिली नहीं दिखाई। यह चैटिंग बम भी समीर वानखेड़े के पक्ष में फूटा। इस चैटिंग ने भी तकनीकी तौर पर समीर वानखेड़े को निर्दोष साबित कर दिया। 

समीर वानखेड़े ने व्हाट्सप्प चैटिंग की तीसरी किस्त (या बम) शुक्रवार, 23 जून 2023 को बॉम्बे हाईकोर्ट में सब्मिट की। किरण गोसावी और आर्यन खान की सेल्फी पर पूर्व मंत्री नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े पर ‘आक्रमण’ कर दिया था। तब ज्ञानेश्वर सिंह ने समीर वानखेड़े से कहा था कि किरण गोसावी निर्दोष है। इतने बड़े एक्टर के बेटे के साथ कोई भी सामान्य व्यक्ति सेल्फी ले लेगा। देखना गोसावी पर कोई बड़ा एक्शन न हो। वगैरह वगैरह। बाद में ज्ञानेश्वर सिंह ने यू-टर्न ले लिया। वे आर्यन खान को बचाने और समीर वानखेड़े को बदनाम करने पर तुल गए। उनकी कोशिश अभी भी जारी है। वे चाहते हैं कि समीर वानखेड़े कैसे भी करके करप्ट साबित हो जाएं और गिरफ्तार भी हो जाएं। परन्तु अब समीर वानखेड़े नहीं, ज्ञानेश्वर सिंह के जेल जाने की नौबत आ गयी है। 

23 जून 2023 को बॉम्बे हाईकोर्ट ने ज्ञानेश्वर सिंह और शाहरुख़ खान की मंशा पर पानी फेर दिया। हाईकोर्ट के न्यायधीशद्वय एएस गडकरी और एसजी दिघे ने सीबीआई को खरी-खोटी सुना दी। सीबीआई चाहती थी कि समीर वानखेड़े को दी हुई अंतिरम राहत ख़त्म कर दी जाये। न्यायाधीशद्वय ने ऑब्ज़र्व किया कि सीबीआई इस केस में प्रॉपर इंक्वायरी नहीं कर रही है। टाइम पास कर रही है। एक्चुअली सीबीआई समीर वानखेड़े के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर फंस गई है। समीर वानखेड़े के ठिकानों पर रेड के बाद भी सीबीआई का हाथ खाली है। उसके पास ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे साबित होता हो कि समीर वानखेड़े ने शाहरुख़ खान से रिश्वत ली है और उनके पास आय से अधिक की संपत्ति है।  

समुद्र के अंदर कॉर्डिलिया क्रूज़ पर ड्रग्स पार्टी करने जा रहे आर्यन खान को समीर वानखेड़े ने 2 अक्टूबर 2021 को गिरफ्तार किया था। आर्यन खान हिंदी फिल्मों के अभिनेता शाहरुख़ खान का बेटा है। समीर वानखेड़े तब मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (NCB) के आंचलिक निदेशक थे। वे मुंबई में तैनात थे। भारतीय पुलिस सेवा के हिमाचल प्रदेश कैडर के अधिकारी ज्ञानेश्वर सिंह मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (साउथ-वेस्ट रीजन) के उप महानिदेशक हैं। आर्यन खान पर कार्रवाई का ‘प्लान ऑफ़ एक्शन’ उन्होंने लिखित में समीर वानखेड़े को दिया था। किरण गोसावी को भी वे बचाना चाहते थे। फिर पता नहीं क्या हुआ कि ज्ञानेश्वर सिंह अचानक शाहरुख़ खान के पाले में चले गए।

3.5 4 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Akela gyaani
Akela gyaani
4 months ago

Is this website a front? No office, no contact details, no grievance cell, no names of journalists.